Wednesday, November 23, 2011

एक मुलाक़ात मौत से

जीवन क्या है ???
चक्र है, दुष्चक्र है..
                सत्य है , असत्य है...
शून्य है , संपूर्ण है..
                चक्र को घुमाने वाला आघूर्ण है...
बात सत्य की चली,
                 मृत्यु भी वहीँ डटी...
बोली मैं जीवन का संपूर्ण सत्य हूँ,
                 मनुष्य का अंतिम कृत्य हूँ...
जीवन के सम्मुख खड़ी वह,
                 निश्छल, अविकल , निर्भय, दृढ-प्रतिज्ञ...
जीवन के पाँव ठिठके हुए,
                  वह है अभी ऋणी और कृतज्ञ....
एक क्षण है वो,
                  जीवन के सामने डटा हुआ...
जो बहा सदैव निर्झर सा,
                   आज वही रुका हुआ....
अनवरत वाणी आज मौन है,
                    सोचती है यह सत्य कौन है ???
फिर देखा सत्य को गौर कर,
                     कुछ सोचता है दो पल ठौरकर...
बोला जीवन मृत्यु से,
                     तूने खेल यह प्रतिक्षण खेला है...
परन्तु अभी आई नहीं,
                     साथ चलने की बेला है...

अंतिम संवाद तेरे संग करूँगा...
जब इस यात्रा को भंग करूँगा....

परन्तु अभी साथ नहीं जाना है,
                              स्वयं का मूल्य चुकाना है...
ऋण उतारकर स्वयं का,
                             आऊंगा तेरे द्वार...
फिर दोनों प्रिय मित्र ,
                           साथ चलेंगे सागर के उस पार......

      
              

Saturday, October 15, 2011

ज़िन्दगी के रंग

एक वक़्त था,
                जो बीत गया...
एक लम्हा सा था,
                 हंसकर गुज़र गया....
वक़्त वो लौटकर आएगा,
                  अपनी याद दिलाएगा...
लौटकर जो आया तो,
                  जीवन के पंख खुल जायेंगे..
एहसासों के रंग ज़िन्दगी में,
                   फिर से घुल जायेंगे..
कहते हैं जीवन एक रेखा है,
                    आने वाला पल किसने देखा है....
मगर मै देखता जिस तरफ से,
                    कुछ अलग ही नज़ारा है...
आने वाले वक़्त का,
                     एक हल्का सा इशारा है...
वक़्त कभी ठहरता नहीं,
                      मगर घूम तो सकता है.....
दिल गुनगुनाता नहीं मेरा,
                     मगर मस्ती में झूम तो सकता है...
यकीं है मुझको,
             ज़िन्दगी के घुमाव का...
आएगा वो एक जज्बा लेकर,
             खुशनुमा वक़्त के ठहराव का...
समय का तो बस,
                 ऐसा ही फेरा है..
और एक बार फिर से,
                   खुशियों ने हमको घेरा है...
ये रात भी अब कुछ,
                   ज़्यादा गहरी हो चली है...
मगर देखा है मैंने उस पार,
                    होने ही वाला सवेरा है...

जल्द जमेंगी महफ़िलें,    
                      फिर यारों का संग होगा....
इस बार कुछ ज़्यादा ही रंगीन,
                       ज़िन्दगी का रंग होगा......

इस बार कुछ ज़्यादा ही रंगीन,
                       ज़िन्दगी का रंग होगा.....

Sunday, September 11, 2011

दूर तलक जाने दो....

मित्रो से भरी महफ़िल में,
                         जब बातें कुछ होती हैं..
अकेला मन उड़ता ऊँचे आसमान में,
                         ऐसी रातें कुछ होती हैं.....
उन भूली बिसरी बातों के रस में,
                         जोर के ठहाके लग जाते हैं...
ऊँचे उड़ते आसमान में,
                         अपने कुछ मिल जाते हैं.....
ठहाकों से गूंजती हैं दिशाएं,   
                         मगर सन्नाटे सुनाई पड़ जाते हैं..
आसमान में अपने मिलने पर भी,
                          हम अकेले ही गोते खाते हैं...
सन्नाटे की भी तो अपनी आवाज़ है,
                          इसको सुनाई पड़ जाने दो....
आकाश में उड़ते पंछी की,
                          तन्हाई झलक जाने दो..
एक बात है भीड़ की,
                         तो दूजी एकाकी मन की...
दोनों ही से होकर जाना है,
                          ये यात्रा है जीवन की...
मन की दशा मन ही में रही,
                          इसे आज छलक जाने दो...
ना रोको सन्नाटे की आवाजें,
                           इन्हें आज भड़क जाने दो...
ये ख्वाबों की दुनिया है मेरे दोस्त...
                           मुझे ज़रा दूर तलक जाने दो...
                           मुझे ज़रा दूर तलक जाने दो....

Saturday, August 20, 2011

In Quest Of Life


One fine night,
After a long hectic day,
When I was in the arms of my bed……
While the eyes remain closed,
A thought ran at the back of my head……

While trying to figure it out…
In my heart it pinched like a knife,
Still trying uncover the hidden….
Yeah! The word is “life”

So what the word is carrying for us??
To all does it mean the same???
All are seeming to move, none is going out
Oh! I got it, Life is that “frame”

The same moment
Distracted by a breeze….
My eyes looking out now
And my heart got freeze….

Is it life???
No,
I have seen it
Probably else somewhere….
And I truly believe
Life was there….

In the first step of a kid
When he thinks he can cover all the ground…
In the eyes of a child
When he thinks he owns a “DAD” no one else could have found…..

In the talks of a little girl
When she believes one day she will live her dreams…
In the confidence of a young man
When he feels he will cross all the hurdle beams….

Now I have sensed the “life”
It is there in every moment…..
It has always been around
Just we need to make that movement…

Saturday, July 23, 2011

If my heart could speak....

I don't know,
from where my thoughts originate
or where is the ground, it have found its seed....
there is a thing i often think about,
I wish my heart could speak............

So many emotions,
so many talks...
it has a lot to say
about those rarest walks.....

years have past to those incidents
seeming fresh yet settled at deep....
beauty of life,captured in a moment
I wish my heart could speak......

Its tough to describe them
I have never seen them with my eyes,
memories which have no face behind...
still I want them to rewind.....

One day, In the world of NOISE...
my heart will have the loudest VOICE...
the language of my emotions, let me seek.....
then my heart will speak
then my heart will speak.......

Wednesday, April 13, 2011

u often cross my mind ...


sometimes when i feel all alone
or cross by a countryside,
when i expect an arm on my shoulder
or someone to be on my side....

u often cross my mind....

in a blink, sequential thoughts run through
u are somewhere else although,
deep feelings have found place at bottom
forgotten moments, still not forgotten......

coz u cross my mind....

a clear image peeps out of the faded picture
as the winds of memories start to blow,
downside the hill, i see the "time" playing like a kid
the "image" will be at its best as "it" will grow......


this way u cross my mind....

so from the day my all blessings n prayers are yours
my belief is that these will open happy doors,
doors to a place, i will like to tell,
where with all comforts, u will love to dwell......

blessings which will keep u healthy and fine
with a belief that u will keep crossing my mind .....

सावन मरा नहीं करता ......


कुछ पानी के बह जाने से  सावन मरा नहीं करता .....
कुछ चेहरों के रूठ जाने से  दर्पण मरा नहीं करता .....
मिलना और मिलकर चले जाना
यही नियति है जीवन की
कुछ पाना है तो कुछ खोना है
मगर सब कुछ पाकर भी
कुछ खोने का एहसास मरा नहीं करता ......
कुछ पानी के बह जाने से सावन मरा नहीं करता .......

यहाँ मंजिल है हर एक रास्ते की
रास्तों में पड़ाव भी आते हैं
सफ़र ज़रा लम्बा है तो
पल भर ठहर भी जाते हैं
लेकिन ठहर जाने से भी  वक़्त ठहरा नहीं करता
कुछ पानी के बह जाने से सावन मरा नहीं करता ......

ये गीत मेरा है, ये लफ्ज़ भी मेरे हैं
लिखा है इसको किसी वक़्त में गुनगुनाने के लिए
मगर भी गाऊ तो इनका साज़ मरा नहीं करता ....
कुछ पानी के बह जाने सावन मरा नहीं करता ........

जो रूठ गया सो रूठ गया
जो छूट गया सो छूट गया
हर बात समझाने के लिए नहीं होती
ज़िन्दगी हमेशा पाने के लिए नहीं होती
बनने बिगड़ने के इस खेल में जीवन कभी रुका नहीं करता ........
कुछ पानी के बह जाने से सावन मरा नहीं करता .........

bas chalte jana hai


kidhar ja raha hu pata nahi,
bas kadam le ja rahe hain....
zindagi ka safar hai aur bas,
chalte hi jana hai .... 

kahi aanch me tapkar jana hai.
to kabhi kaanch par chalkar jana hai...
rukta hu. thaherta hu fir chal padta hu,
kyuki kadmo ko to bas chalte jana hai .......

naye naate jodta hu,
kabhi purane hath chhodta hu..
chala aaya hu bahut door,
so kabhi peeche mudkar bhi dekhta hu.......

dekhta hu waha tak,
nigah meri le jaye jaha tak...
maalum padta hai kuch log ruth gaye hain.....
chhod diya hai unhone mera haath,
ya khud-ba-khud hi chhoot gaye hain.........

unhone kuch naye haathon ko thaama hai,
magar mere kadmo ko to bas chalte jana hai........

chal pado mere saath gar tumko aana hai
mujhe to nadi ki tarah bahte jana hai...
kya laayega aane wala pal,
kisne ye kabhi jana hai....
par mujhe ab bas chalte jana hai......